रविवार, 14 जून 2015

अखिलेश का राजधर्म!

उत्तरप्रदेश में एक प्रत्रकार को जिंदा जलाने के आरोप अखिलेश यादव के मंत्री पर लगें हंै। पत्रकार ने मृत्यु पूर्व अपने बयान में यह साफ कर दिया की मंत्री के इशारे पर पुलिस कर्मियों ने उसे जिंदा जला दिया। मगर अब तक आरोपी मंत्री को पुलिस ने गिरफतार नही किया है। इसके पीछे वजह साफ है। रामस्वरूप वर्मा सपा की वोर्ट बैंक 
राजनीति में सटीक बैठते हैं। शाहजहांपुर में तकरीबन 1.5 लाख लोध वोट हैं। इसपर आरोपी मंत्री की पकड़ है।बस यही प्रश्न सपा सरकार को परेशान कर रहा है। आरटीओ की पीटाई करने वाला मंत्री कैलाश चैरसिया पुलिस की पकड़ से बाहर है। यूपी की पुलिस पूरी तरह से राजनीति की गिरफत में है। मतलब वोट बैंक के लालच में हमारे नेता या पार्टी किसी भी हद तक जा सकतें हैं। मगर अखिलेश यादव जैसे युवा नेता से यह उम्मीद नही थी। उनके कई मंत्रियों पर गंभीर आरोप है। मगर सब खुले में घूम रहें है। जब अखिलेश राजधर्म का पालन नही कर रहें है तो जनता वोट धर्म से उन्हें सबक सिखाएगी।

1 टिप्पणी:

  1. उसी अपराध में कोतवाल निलंबित और उसी आरोप में मत्री खुल्ला घूम रहा है

    उत्तर देंहटाएं