मंगलवार, 1 नवंबर 2011

मैं मीडिया मजदूर हूं मैं इल्म से मजबूर हूं

मैं मीडिया  मजदूर  हूं मैं इल्म   से   मजबूर  हूं
जो  हो गये  है  भष्ट पथ  मैं उन  पथों से दूर हूं
 मै! प्रशासन की प्रसव पीडा  में दृष्टि  डालता हूं
 राजनीतिक  रूग्णता  के  रोग  को  खंगालता  हूं

मैं आइना  हूं आज हिन्दुस्तान  के  हर भाग का
चिन्गारियो!  में भी भरोसा हूं लपट और आग का
विश्वास  है खुद का खुदी  पर  इसलिये  मैं शूर हूं
मैं मीडिया   मजदूर  हूं और  इल्म  से  मजबूर हूं

कल्पना  साकार  करने  की  कला मै!   जानता हूं
हर तन्त्र का प्रहरी  बना, प्रहार  करना  जानता हूं
मैं वतन की  सरहदों से भी  खबर को  खी!चता हूं
मै! विवश होकर वतन के  हर चमन को सी!चता हं
मै!  सियासी   हर  खबर   को  कैमरे  मे!  डालता हूं
संसद  में  हो  रहे  व्यभिचार   को   ख!गालता हूं
खोलने  को  हर  खबर , इस  राज  की ,मजबूर हूं
 मैं  मीडिया   मजदूर  हूं और  इल्म  से  मजबूर हूं

बीथिका , बाजार  में  बे - खो!प हो  कर घूमता हूं
खुद  खबर  बनकर खबर  को हर खबर मे! ढूंढता हूं
 ढूंढता  हूं मैं वतन  के ,तल में दबे  अवशेषों को
धारणा   दिल   में  बसी   है  मैं  संवारू  देश   को
मैं खोजता   हूं  हर   उपायों  को ,धरा  बचती रहे
सहयोग  में  मेरी  कला  भी   कुछ  नया  रचती रहे
इसलिये   हर   भ्रष्टता   का    बन   गया  नासूर  हूं
मै!   मीडिया   मजदूर   हूं और   इल्म  से मजबूर  हूं

दे  रहा   हूं  हर   खबर   जनता   जगाने    के  लिये
संघर्श  है   व्यभिचार   को   जड़ मिटाने  के  लिये
हर  सियासी  अडचनों  में  मुस्करा   कर  खेलता हूं
कुर्बानिया   गम्भीर    होकर   मैं  हमेशा   झेलता हूं
लोग  चाहें  कुछ   कहे!  अपना   हूनर  में जानता हूं
मै!  कैमरे  से   सा!सदो!   की   बाणीयों को छानता हूं
मैं मीडिया   के   इस   हूनर   में  भी  हमेशा  हूर हूं
मैं मीडिया   मजदूर   हूं और   इल्म  से   मजबूर हूं

 आभार राजेन्द्र बहुगुणा



2 टिप्‍पणियां:

  1. लोग चाहें कुछ कहे! अपना हूनर में जानता हूं

    wah bahut khooobbbbbb

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपनी कविता मिडीया मंच डॉट कॉम पर प्रकाशन की अनुमति देते हुए इस sathii66@gmail.com भेजने का कष्ट करें,,

    उत्तर देंहटाएं